Home Blog Meta ने कर्मचारियों को दी सख्त चेतावनी, तीन दिन ऑफिस से काम करना जरूरी वरना हो सकता है टर्मिनेशन

Meta ने कर्मचारियों को दी सख्त चेतावनी, तीन दिन ऑफिस से काम करना जरूरी वरना हो सकता है टर्मिनेशन

0
Meta ने कर्मचारियों को दी सख्त चेतावनी, तीन दिन ऑफिस से काम करना जरूरी वरना हो सकता है टर्मिनेशन

[ad_1]

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक (Facebook) की पैरेंट कंपनी मेटा (Meta) ने अपने कर्मचारियों के लिए एक सख्त चेतावनी जारी की है। मेटा ने चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि जो भी कर्मचारी हफ्ते में तीन दिन ऑफिस नहीं आने की पॉलिसी का पालन नहीं कर रहे हैं उनको बर्खास्त किया जा सकता है। बता दें कि हाल ही मेटा ने हफ्ते में तीन दिन ऑफिस से काम करना अनिवार्य कर दिया है।

कब से लागू होगा ये नियम

मेटा का यह नियम 5 सितंबर से लागू होगा। साथ ही यह नियम उन सभी मेटा कर्मचारियों पर लागू होगा जिनको ऑफिस दिया गया है। साथ ही मेडिकल इमरजेंसी या विकलांगता या फिर इस तरह की किसी और इमरजेंसी की कंडीशन में ऑफिस जाने के नियम से छूट दी जा सकती है। साथ ही स्टाफ मेंबर्स को हफ्ते में दो दिन वर्क फ्रॉम होम करने का ऑप्शन दिया गया है। फिर भी उनको यह सख्त सलाह दी गई है कि वे तीन दिन ऑफिस से ही काम करें। कंपनी का मानना है कि इससे टीम में कम्युनिकेशन बना रहता है। साथ ही प्रोडक्टिविटी भी बढ़ती है।

कंपनी ने भेजा है ईमेल

मेटा कर्मचारियों को भेजे गए एक ईमेल के मुताबिक कंपनी के हेड ऑफ पीपुल लोरी गोलेर ने कहा 5 सितंबर से ऑफिस में नियुक्त कर्मचारियों को टीम के साथ संबंध और सहयोग को मजबूत करने के लिए हर हफ्ते कम से कम तीन दिन ऑफिस में बिताना होगा। इसमें आगे कहा गया, “मैनेजर्स मंथली बेसिस पर बैज और स्टेटस टूल की जानकारी की समीक्षा करेंगे और स्थानीय कानून और वर्क काउंसिल की आवश्यकताओं के अधीन उन लोगों से संपर्क करेंगे जो आवश्यकता को पूरा नहीं करते हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक कंपनी की अन्य नीतियों की तरह, बार-बार उल्लंघन करने पर अनुशासनात्मक कार्रवाई हो सकती है। जिसमें रेटिंग में गिरावट और टर्मिनेशन भी शामिल है।

क्या कहा मार्क जुकरबर्ग ने

मेटा के सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने कहा कि कंपनी की यह नई पॉलिसी ऑफिस में एक हेल्दी संबंध को मजबूत करने और बढ़ाने के लिए जरूरी है। कंपनी अफने कर्मचारियों को एक अच्छा माहौल देने के लिए प्रतिबद्ध है। हालांकि कुछ कर्मचारियों ने कंपनी के इस फैसले पर असंतोष भी व्यक्त किया है। वहीं एक्स और गूगल जैसी कंपनियां भी हाइब्रिड वर्क कल्चर को शुरू करने के बारे में सोच रही हैं।

[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here