Home Blog राजस्थान रोडवेज अब भगवान भरोसे! 1500 से ज्यादा बसें हुई खटारा, यात्रियों पर मंडरा रहा जान माल का खतरा

राजस्थान रोडवेज अब भगवान भरोसे! 1500 से ज्यादा बसें हुई खटारा, यात्रियों पर मंडरा रहा जान माल का खतरा

0
राजस्थान रोडवेज अब भगवान भरोसे! 1500 से ज्यादा बसें हुई खटारा, यात्रियों पर मंडरा रहा जान माल का खतरा

[ad_1]

हाइलाइट्स

राजस्थान रोडवेज हुई बेहाल
1500 से ज्यादा बसें खटारा हालत में हैं
विभाग ने अब खटारा बसों के संचालन पर लगाई रोक

जयपुर. राजस्थान रोडवेज के हालात सुधरने का नाम नहीं ले रहे हैं. रोडवेज की 3 हजार बसों में से अधिकतर खटारा हो चुकी बसों का संचालन भगवान भरोसे किया जा रहा है. वहीं बारां में हुए बस हादसे के बाद राजस्थान परिवहन निगम ने खटारा बसों का सर्वे फिर से शुरू कर दिया है. इसके अलावा रोडवेज की तरफ से सभी आगारों को खटारा बसों के संचालन पर तुरंत रोक लगाने के निर्देश जारी किए गए हैं.

राजस्थान रोडवेज के कार्यकारी निदेशक रवि सोनी ने बताया कि नई बसों की खरीद न हो पाने की वजह से रोडवेज की 3 हजार बसों में से 1500 से ज्यादा बसें खटारा हो चुकी है. विभाग द्वारा मजबूरन खटारा बसों को रिपेयर करके चलाया जा रहा है. सड़क पर दौड़ती ये बसें हादसे को न्यौता दे रही हैं. इन सब के बावजूद विभाग के पास फिलहाल इस समस्या का कोई समाधान नहीं है. परिवहन विभाग इस समय बसों की खरीद के लिए टेंडर प्रक्रिया से गुजर रहा है. लेकिन रोडवेज द्वारा अब तक सर्विस मॉडल की व्याख्या नहीं हो पाई है जिससे पता चल सके कि बसों को खरीदना है या फिर अनुबंध पर लेना है.

रोडवेज बस के फर्श में हो गया था छेद
राजस्थान के बारां में रोडवेज बस के फर्श में छेद होने की वजह से बीते गुरुवार को एक नाबालिग बच्ची सड़क पर गिरकर घायल हो गई थी. जानकारी के मुताबिक नाबालिग बच्ची अपने माता- पिता और भाई के साथ भंवरगढ़ से नाहरगढ़ इलाके में स्थित अपने गांव जा रही थी. इसी दौरान बस में एक सीट के नीचे बने छेद से फिसलकर वह सड़क पर गिर गई थी. उसके बाद उसे इलाज के लिए बारां के जिला अस्पताल ले जाया गया था जहां पर डॉक्टरों ने उसकी हालत खतरे से बाहर बताई थी.

590 नई बसों का टेंडर हो गया था रद्द
गौरतलब है कि राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने बजट में 1 हजार नई बसों को खरीदने की घोषणा की थी. उसके बाद 590 बसों को खरीदने के लिए टेंडर भी जारी कर दिया गया था, लेकिन बाद में रोडवेज चैयरमेन द्वारा बजट का हवाला देकर इसे रद्द कर दिया गया था. टेंडर के अनुसार नई बसों की खरीद के लिए अनुमानित खर्च 140 करोड़ बताया गया था. वहीं रोडवेज के चैयरमेन आनंद कुमार के मुताबिक यह बजट 119 करोड़ रुपये से ज्यादा नहीं होना चाहिए था.

Tags: Jaipur news, Rajasthan news, Rajasthan Roadways

[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here