Home Blog ‘मनमाने ढंग से गिरफ्तारी, तोड़फोड़ की धमकी…’: CJI चंद्रचूड़ ने अदालतों की अहमियत पर कही बड़ी बात

‘मनमाने ढंग से गिरफ्तारी, तोड़फोड़ की धमकी…’: CJI चंद्रचूड़ ने अदालतों की अहमियत पर कही बड़ी बात

0
‘मनमाने ढंग से गिरफ्तारी, तोड़फोड़ की धमकी…’: CJI चंद्रचूड़ ने अदालतों की अहमियत पर कही बड़ी बात

[ad_1]

नई दिल्ली. अदालतों द्वारा अपने प्रमुख फैसलों को क्षेत्रीय भाषाओं में अनुवाद करने के न्यायपालिका के प्रयासों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रशंसा के तुरंत बाद भारत के प्रधान न्यायाधीश (सीजेआई) डीवाई चंद्रचूड़ ने मंगलवार को मनमानी गिरफ्तारियों और विध्वंस की धमकी का जिक्र किया. किसी मामले का उल्लेख किए बिना सीजेआई ने शीर्ष अदालत परिसर में स्वतंत्रता दिवस कार्यक्रम में अपने सहयोगियों को संबोधित करते हुए कहा कि किसी मामले का नतीजा चाहे जो भी हो, सिस्टम की ताकत न्याय देना है.

सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन द्वारा आयोजित कार्यक्रम में विशेष अतिथि के रूप में मंच पर उपस्थित केंद्रीय कानून मंत्री अर्जुन राम मेघवाल की मौजूदगी में उन्होंने कहा, ‘किसी व्यक्ति की मनमाने ढंग से गिरफ्तारी, विध्वंस की धमकी, अगर उनकी संपत्तियों को गैरकानूनी तरीके से कुर्क किया जाता है, तो इस विश्वास की भावना को सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीशों में सांत्वना और आवाज मिलनी चाहिए.’

स्वतंत्रता संग्राम पर क्या बोले सीजेआई चंद्रचूड़
उन्होंने यह भी कहा, ‘हमारे स्वतंत्रता संग्राम ने हाशिये पर पड़े और वंचितों को आधिपत्य, सामाजिक संरचना के प्रभाव के खिलाफ अपनी आवाज उठाने के लिए एक संवैधानिक स्थान प्रदान किया. इसने न्याय दिलाने के लिए शासन की संस्थाओं को लोगों की पीड़ाओं पर सक्रिय रूप से प्रतिक्रिया देने का आदेश दिया.’ उन्होंने कहा कि पिछले 76 वर्षों में हमें एहसास हुआ है कि प्रत्येक संस्था ने हमारे राष्ट्र की आत्मा को मजबूत करने में योगदान दिया है.

‘देश की सभी संस्थाएं राष्ट्र निर्माण से जुड़ी हैं’
सीजेआई ने कहा, ‘यह महत्वपूर्ण है कि हम यह पहचानें कि राष्ट्र की सभी संस्थाएं, कार्यपालिका, विधायिका और न्यायपालिका राष्ट्र निर्माण के सामान्य कार्य से जुड़ी हैं.’ उन्होंने कहा, ‘और इस अवसर को हमारे सामूहिक लक्ष्यों और संस्थागत आकांक्षाओं को पुन: व्यवस्थित करने के अवसर के रूप में काम करना चाहिए.’

सीजेआई ने यह भी रेखांकित किया कि “हमारा संविधान यह सुनिश्चित करने के लिए न्यायपालिका के लिए एक महत्वपूर्ण भूमिका की परिकल्पना करता है कि शासन की संस्थाएं परिभाषित संवैधानिक सीमाओं के भीतर काम करती हैं.”

Tags: DY Chandrachud, Independence day, Supreme Court

[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here