Home Blog अरबपति कर रहे दुनिया के अंत की तैयारी, बंकर की जगह से लेकर खोज रहे दूसरा ग्रह तक

अरबपति कर रहे दुनिया के अंत की तैयारी, बंकर की जगह से लेकर खोज रहे दूसरा ग्रह तक

0
अरबपति कर रहे दुनिया के अंत की तैयारी, बंकर की जगह से लेकर खोज रहे दूसरा ग्रह तक

[ad_1]

Doomsday: धरती पर मौजूद संसाधनों के अंधाधुंध दोहन और बढ़ते प्रदूषण, जलवायु परिवर्तन और ग्‍लोबल वार्मिंग से दुनियाभर के वैज्ञानिक व पर्यावरणविद चिंतित हैं. सभी को डर सताता रहता है कि अगर इसे नहीं रोका गया तो एक दिन धरती पर जीवन का अंत होना तय है. ये डर सिर्फ वैज्ञानिकों और पर्यावरणविदों को ही नहीं है, बल्कि टेक फील्‍ड के दिग्‍गज भी इस डर औश्र चिंता से अछूते नहीं हैं. इसलिए टेक फील्‍ड के कई दिग्‍गज दुनिया के सर्वनाश के दिन के लिए सुरक्षित बंकरों की जगह तलाश कर रहे हैं, तो कई ऐसे ग्रह की तलाश में जुटे हैं, जो धरती के विनाश के बाद इंसानों के रहने लायक हो.

बुद्धिजीवी डगलस रश्‍कॉफने दुनिया के अंतिम समय की तैयारी कर रहे तकनीकी अरबपतियों की इस परेशान करने वाली प्रवृत्ति के बारे में बताने के लिए पूरी किताब ही लिख डाली है. डगलस की 2022 में आई किताब ‘सर्वाइवल ऑफ द रिचेस्ट: एस्केप फैंटेसीज ऑफ द टेक बिलियनेयर्स’ कई अरबपतियों के साथ बातचीत पर आधारित है. ये अरबपति पता करने में जुटे हैं कि सामाजिक और ग्रहीय पतन से कैसे बचा जा सकता है.

ये भी पढ़ें – बेंगलुरु में लोगों ने मनाया जीरो शैडो डे, गायब हुई लोगों की परछाई, कैसे होती है ये दुर्लभ घटना

सेफ बंकर की सर्च में अरबपति
डगलस की किताब के मुताबिक, कई अरबपति ये पता कर रहे हैं कि प्रलय के दिन सुरक्षित बंकर के लिए न्‍यूजीलैंड या अलास्‍का में कौन सबसे अच्छी जगह है? रशकॉफ ने टेक अरबपतियों के एक समूह के साथ रेगिस्तान में अपने अनुभव को साझा किया, जिन्होंने उनसे अपने बंकरों के निर्माण के बारे में पूछा. कुछ ने आदर्श स्थान के बारे में पूछताछ की, जबकि कुछ ने पहले से ही अपने बंकर तैयार कर लिए थे. ऐसे बंकरों पर गार्ड तैनात कर दिए गए हैं. इसके बाद भी ये अरबपति डगलस से कुछ और सुझाव भी चाहते थे.

Billionaires, preparing for end of world, search for new planets, safe bunkers, other planets, Life after Earth, Survival of the Richest, Tech Billionaires, Planetary Collapse, Doomsday Bunker, New Zealand, Alaska, Jeff Bezos, Elon Musk, Sam Altman, Steve Huffman, Mark Zuckerberg, Soviet Bunker

डगलस रश्‍कॉफ की किताब सर्वाइव ऑफ द रिचेस्‍ट में प्रलय के दिन की तैयारी कर रहे अरबपतियों का जिक्र है. (Image: LinkedIn)

ऑल्‍टमैन का ऑल्‍टरनेटिव प्‍लान
आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सेक्‍टर के किंग के नाम से मशहूर सैम ऑल्टमैन ने थिएल के साथ एक सौदा किया है. बता दें कि थिएल एक एक रूढ़िवादी उदारवादी अरबपति और अमेरिकी खुफिया कंपनी पैलेंटिर के प्रमुख हैं. ऑल्‍टमैन की कंपनी ओपन-एआई अपने काम से पूरी दुनिया में हंगामा खड़ा कर चुकी है. ऑल्‍टमैन ने सर्वनाश के दिन के लिए थिएल के साथ सौदा किया है. ऑल्‍टमैन ने 2016 में बताया था कि कुछ भी भयानक होने की स्थिति में उन्‍होंने थिएल के साथ अपने निजी जेट में न्यूजीलैंड के लिए उड़ान भरने की योजना बनाई है.

ये भी पढ़ें – वैज्ञानिकों का अनुमान, कभी रहने लायक रहा होगा मंगल ग्रह, रही होगी पृथ्‍वी जैसी आर्द्र जलवायु

स्‍पष्‍ट नजर के लिए आंख की सर्जरी
रेडिट के सीईओ स्टीव हफमैन ने 2017 में डगलस को बताया कि आंखों की सर्जरी कराने का उनका निर्णय सुविधा या सौंदर्य कारणों से नहीं था. इसके बजाय उन्‍होंने किसी विपत्ति से बचने की अपनी संभावनाओं को बेहतर बनाने की कोशिश की है. उन्होंने कहा कि अगर दुनिया खत्म हो जाती है और भले ही दुनिया खत्म न हो जाए, लेकिन अगर हमें परेशानी होती है, तो संपर्क या चश्मा मिलना बहुत मुश्किल हो जाएगा. उसके बिना मैं कुछ नहीं कर पाऊंगा. यही नहीं, हफमैन के पास कुछ मोटरसाइकिल्‍स, गन्‍स और बारूद भी है. उन्‍होंने प्रलय के लिए खाने का इंतजाम भी किया है.

ये भी पढ़ें – पूरी दुनिया की जलवायु प्रभावित कर सकते हैं धूल के तूफान

50% ने कराया ‘सर्वनाश बीमा’
प्रलय की तैयारी कराने वाले ज्‍यादातर अरबपतियों ने इसका खुलासा नहीं किया है. हफमैन का अनुमान है कि तकनीक क्षेत्र से जुड़े करीब 50 फीसदी अरबपति प्रलय के दिन के लिए कम से कम आंशिक रूप से तैयार हैं. उन्होंने डगलस को बताया कि सबके डर अलग-अलग हैं. कई लोगों को चिंता है कि जैसे-जैसे एआई नौकरियों की बढ़ती हिस्सेदारी छीन रही है, वैसे-वैसे लोग सिलिकॉन वैली के खिलाफ होते जाएंगे. इस क्षेत्र में सबसे सफल कंपनियों में से एक विवोस निजी लग्‍जरी बंकरों में स्पॉट तक सब कुछ महज 35,000 डॉलर में उपलब्‍ध करा रही है.

Billionaires, preparing for end of world, search for new planets, safe bunkers, other planets, Life after Earth, Survival of the Richest, Tech Billionaires, Planetary Collapse, Doomsday Bunker, New Zealand, Alaska, Jeff Bezos, Elon Musk, Sam Altman, Steve Huffman, Mark Zuckerberg, Soviet Bunker

विवोस नाम की एक कंपनी निजी लग्‍जरी बंकरों में स्पॉट तक सब कुछ महज 35,000 डॉलर में उपलब्‍ध करा रही है. (Image: File Photo)

सोवियत बंकरों में भव्‍य सुविधाएं
जर्मन शहर जेना के ठीक बाहर विवोस डूम्सडे बंकर हाइ नेटवर्थ वाले परिवारों के लिए पांच सितारा आवास का वादा कर रहा है. शीतयुद्ध के दौरान सोवियत संघ द्वारा पहाड़ में बनाई गई इस विशाल भूमिगत संरचना में स्विमिंग पूल से लेकर शॉपिंग स्ट्रीट तक सबकुछ है. अपनी वेबसाइट पर सभी संभावित प्रलय के परिदृश्यों की बात करते हुए विवोस का कहना है कि यह किसी भी स्थिति के लिए तैयार है. कंपनी कहती है कि उसके पास 10,000 से ज्‍यादा लोगों के लिए जगह है.

ये भी पढ़ें – डार्विन-200 क्‍या है, क्‍यों 105 साल पुराने जहाज से समुद्र के सफर पर निकले पर्यावरणविद

कंक्रीट की दीवारों से सुरक्षा
ओपिडम नाम की एक कंपनी ने एक घर के पास बनाए सुरक्षित स्‍थान तैयार किया है. कंपनी ने दिखाया है कि प्रलय के दौरान इस जगह पर आपको सभी सुविधाएं मिलेंगी. इस जगह में कांच के झूमर, फर्नीचर, ठोस लकड़ी के फर्श हैं. ये जगह धरती की सतह के नीचे काफी गहराई में बनाई गई है. सुरक्षित बनाने के लिए इसे कंक्रीट की मोटी दीवारों से घेरा गया है. इस जगह की कीमत 6 करोड़ डॉलर से शुरू होती है. अमेरिका के कई सुपर-रिच लोग मार्च 2020 में कोराना महामारी के कारण न्‍यूजीलैंड की सीमाएं बंद होने से पहले अपने बंकरों तक पहुंच गए. डूम्‍सडे बंकर निर्माता राइजिंग एस कंपनी को एक ऐसे ही सीईओ की ओर से लगातार कॉल्‍स आती रहीं, क्‍योंकि वह बंकर का इस्‍तेमाला करना नहीं जानते थे.

ये भी पढ़ें – Explainer: चंद्रयान-3 और लूना-25 में चांद पर पहले पहुंचने की होड़! दोनों के टेक, बजट, पथ में कितना है अंतर

दूसरे ग्रह की तलाश भी जारी
तमाम अरबपतियों से अलग एलन मस्‍क मानवता को संरक्षित करने के लिए मंगल ग्रह पर उपनिवेश बनाने की जरूरत को लेकर आश्वस्त हैं. मस्क ने 2018 में कहा था कि वह अपने भाग्य का आधा हिस्सा सभी प्रजातियों के जीवन की निरंतरता सुनिश्चित करने के लिए खर्च करने की योजना बना रहे हैं. अगर पृथ्वी डायनासोर काल जैसे उल्कापिंड की चपेट में आती है या तीसरा विश्‍व युद्ध होता है और हम खुद को नष्ट कर लेते हैं, तो हमें दूसरे ग्रह पर जीवन बसाना होगा. एक अन्य अरबपति जेफ बेजोस ने बताया कि पृथ्वी संसाधनों से बाहर हो रही है और तबाही होनी ही है. वह कहते हैं कि लोग उनकी सराहना करेंगे, जब जलवायु परिवर्तन की मार, खत्म होते संसाधन और सांस लेने लायक हवा के कारण ‘ग्रहीय अंधराष्ट्रवाद’ को त्यागना पड़ेगा.

Billionaires, preparing for end of world, search for new planets, safe bunkers, other planets, Life after Earth, Survival of the Richest, Tech Billionaires, Planetary Collapse, Doomsday Bunker, New Zealand, Alaska, Jeff Bezos, Elon Musk, Sam Altman, Steve Huffman, Mark Zuckerberg, Soviet Bunker

एलन मस्‍क और जेफ बेजोस जैसे अरबपति मानवता को संरक्षित करने के लिए दूसरे ग्रह की तलाश पर जोर दे रहे हैं.

रश्‍कॉफ के तर्क हैं कुछ अलग
अरबपतियों की व्यावहारिकता की सराहना करने के बजाय डगलस रशकॉफ का तर्क है कि वे अपने खुद के बनाए एक भयानक भविष्य के लिए तैयारी कर रहे हैं. उनके पास यह तय करने की शक्ति है कि क्या एआई दुनिया को तबाह कर देगा, क्या ध्रुवीकृत समाज गृहयुद्ध में ढह जाएगा या क्या तीसरा विश्‍व युद्ध या पर्यावरण और संसाधनों की कमी ग्रह को नष्ट कर देगी. बता दें कि कई लग्‍जरी बंकर काम करने के लिए अप्रमाणित हैं. वहीं, ये भी बड़ा सवाल है कि अगर पैसे का चलन बंद हो जाता है तो अरबपति अपने सुरक्षा गार्ड, रसोइये और अन्य नौकरों को भुगतान कैसे करेंगे. रशकॉफ का तर्क है कि सर्वनाश की आशंका ज्‍यादा धन जुटाने की उनकी इच्छा को सही ठहराती है.

Tags: Earth

[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here